Media Coverage

सीएसजेएम गर्ल्स हॉस्टल, जीबीयू ने समाज सुधारक छत्रपति शाहू जी महाराज की जयंती मनाई

SSR

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में छत्रपति साहू जी महाराज (सीएसजेएम) गर्ल्स हॉस्टल के निवासियों ने 18 मई 2024 (शनिवार) को एक आकर्षक और जीवंत कार्यक्रम के साथ समाज सुधारक छत्रपति शाहू जी महाराज की जयंती मनाई। कार्यक्रम ऊर्जा और प्रेरणा से भरे सीएसजेएम गर्ल्स हॉस्टल के प्राचीन परिसर में भगवान के आह्वान और निशिका शर्मा द्वारा गणपति वंदना के साथ शुरू हुआ। कार्यक्रम में डीन, स्टूडेंट अफेयर्स डॉ. मनमोहन सिंह शिशोदिया (डीएसए), चीफ वार्डन (बॉयज़) डॉ. सुभोजित बनर्जी और चीफ वार्डन (गर्ल्स) डॉ. विदुषी शर्मा विशिष्ट अतिथि थे। कार्यक्रम में जीबीयू के विभिन्न गर्ल्स हॉस्टल से डॉ. रेनू यादव और अन्य वार्डन भी उपस्थित थीं। कार्यक्रम में सभी विद्यार्थियों एवं स्टाफ सदस्यों ने सक्रिय रूप से भाग लिया। कार्यक्रम की शुरुआत मेजबान डॉ. आशा पांडे, वार्डन, सीएसजेएम हॉस्टल के औपचारिक स्वागत भाषण के साथ हुई, जिसमें छत्रपति साहू जी महाराज के जुनून और दृढ़ संकल्प पर प्रकाश डाला गया। सुश्री गरिमा प्रजापति द्वारा साहू जी के जीवन और शिक्षा और सामाजिक समानता, विशेषकर महिलाओं और पिछड़े समुदायों के लिए उनके महत्वपूर्ण योगदान की एक झलक प्रस्तुत की गई। इसके बाद सभा को डीन स्टूडेंट अफेयर डॉ. मनमोहन सिंह शिशोदिया के विचारोत्तेजक शब्दों से संबोधित किया गया। छात्रों को उनकी उत्साहपूर्ण भागीदारी के लिए बधाई दी गई। साहू जी के प्रगतिशील सुधारों और उनके स्थायी प्रभाव को मुख्य वार्डन (बालक) डॉ. सुभोजित बनर्जी ने भी संबोधित किया। मुख्य वार्डन (बालिका) डॉ. विदुषी शर्मा द्वारा विद्यार्थियों को छात्रावास को साफ-सुथरा रखने एवं रखरखाव हेतु प्रोत्साहित किया गया। गरिमा सिंह, निशिका शर्मा और सोनाली द्वारा भारत की विविधता में एकता को दर्शाने वाले जीवंत सांस्कृतिक नृत्य प्रस्तुत किए गए। तेजस्विनी द्वारा एक प्रेरक स्वलिखित कविता का सुंदर पाठ किया गया। छात्रों ने डीएसए और मुख्य वार्डन के साथ एक जीवंत चर्चा में भी भाग लिया, उन्होंने छात्रावास, मेस और अन्य सुविधाओं के बारे में अपनी प्रतिक्रिया साझा की। इस कार्यक्रम ने साहू जी की विरासत की एक मूल्यवान याद दिलाई और छात्रों को अधिक न्यायपूर्ण और न्यायसंगत समाज की वकालत करने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम का समापन डॉ. आशा पांडे, वार्डन सीएसजेएम द्वारा औपचारिक धन्यवाद ज्ञापन और उसके बाद राष्ट्रगान के साथ हुआI

दुश्‍मनों के मंसूबों को जड़ से नष्‍ट करेगी डिजिटल फोरेंसिक लैब, सीमा पार से आनेवाले ड्रोन का हो सकेगा खात्मा

SSR

इन ड्रोन को एंटी राग ड्रोन टेक्नोलॉजी कमेटी (आरओजीयूई) की ओर से तुरंत मारकर नष्‍ट कर दिया जाता है। उसमें रडार और जैमर डिटेक्शन में दिक्कत आती है और उसका डाटा भी रिकवर नहीं हो पाता जिस वजह से दुश्‍मन के मंसूबों तक आखिर वह ड्रोन उसने क्‍यों भेजा गया उसका पता नहीं लग पाता। साइबर फोरेंसिक लैब नष्‍ट डिवाइस से भी डाटा रिकवर कर सारे जवाब उगलवा लेगी। डिजिटल क्रांति नित नए अध्‍याय लिख रही है। उसी के माध्‍यम से आतंकी संगठनों के मंसूबों को भी पस्‍त किया जा रहा है। एक कड़ी आगे बढ़ते हुए आतंकी देशों द्वारा देश की सीमा पर भेजे जाने वाले ड्रोन के मकसद का भी पता लगाया जा सकेगा। इसके लिए देश की पहली डिजिटल साइबर फोरेंसिक लैब तैयार हो रही है। दुश्मन देश लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पर आए दिन ड्रोन के माध्यम से कभी हथियार गिराते हैं तो कभी नशे का सामान फेंकते हैं या फिर रेकी करते हैं। नोएडा स्थित गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी में तैयार इस डिजिटल साइबर फोरेंसिक लैब में डाटा रिकवर करने के लिए स्वीडन-इजरायल साइबर टूल का इस्तेमाल किया जाएगा। इसमें डाटा स्ट्रैक्शन टूल को लगाया जाएगा, जिसमें ड्रोन की नष्ट चिप को लगाया जाएगा, इसके बाद उसकी सारी वह जानकारी हासिल होनी शुरू हो जाएगी। इसमें उसकी रिपोर्ट किसके पास है, किस स्थान से उड़ाया गया, ड्रोन के द्वारा कहां-कहां की तस्‍वीरें क्लिक की गईं, कहां भेजी गईं सब राज उगले जाएंगे। डाटा स्ट्रैक्शन वो टूल है, जिसमें नष्‍ट डाटा खुद ही रिकवर हो जाता है। इसी तरह किसी आतंकी या देश के विरुद्ध साजिश रचने वाले किसी आरोपित का नष्‍ट किया हुआ मोबाइल, लैपटाप मिलता है तो उसे भी रिकवर किया जा सकेगा। इसके लिए स्वीडन, इजरायल, अमेरिका के साइबर टूल का इस्तेमाल किया जाएगा, जिसमें नष्ट गैजेट के कुछ अंश को डालने के बाद में मैसेज, ई-मेल, फोटो, फाइल समेत अन्य जानकारी हासिल हो सकेंगी।

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग द्वारा ऑनलाइन ‘अलुमनाई मीट’ का हुआ सफल आयोजन 

SSR

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग ने विश्वविद्यालय के कॉर्पोरेट रिलेशन सेल के सहयोग में शनिवार सुबह 11 बजे से ऑनलाइन ‘अलुमनाई मीट’ का सफल आयोजन किया. इस आयोजन का शुभारंभ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रविंद्र कुमार सिन्हा जी के वक्तव्य के साथ हुआ. अपने वक्तव्य में कुलपति जी ने सभी पूर्व छात्रों का स्वागत किया और कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रो. सुभाशीष भद्रा जी को समाज कार्य विभाग की नींव रखने के लिये विशेष रूप से धन्यवाद दिया. इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रो. सुभाशीष भद्रा वर्तमान में NIMHANS, बेंगलुरु में कार्यरत हैं और उन्होंने गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग की शुरुआत करने में अहम भूमिका अदा की थी. इसके बाद मानविकी तथा सामाजिक विज्ञान की डीन प्रोफेसर बन्दना पांडेय ने स्वागत वक्तव्य में इस आयोजन की महत्ता पर प्रकाश देते हुए छात्रों को सम्बोधित किया. उनका वक्तव्य विभाग से जुड़े रहने के महत्व, भावनाओं के विकास और भविष्य की संभावनाओं पर केंद्रित रहा. इसके साथ ही उन्होंने मुख्य अतिथि प्रो. सुभाशीष भद्रा जी का स्वागत किया और पूर्व छात्रों को गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय से जुड़े रहने की अपील भी की. इस आयोजन को अगली बार भौतिक रूप से करने की संभावना व्यक्त की. कार्यक्रम के अगले चरण में मुख्य अतिथि प्रो. सुभाशीष भद्रा ने विभाग से जुड़ी भावनात्मक यादों को सबके साथ साझा किया. इस अवसर पर उनके पढ़ाए हुए छात्रों ने उन भावनाओं को याद और व्यक्त भी किया. उन्होंने छात्रों को अकादमिक विस्तार के लिये परस्पर सीखने की भावना रखने की सलाह दी. समाज कार्य विभाग उनका विशेष आभार व्यक्त करता है. इसके बाद छात्रों ने भी अपनी पुरानी यादों में विभाग के विभिन्न शिक्षकों का आभार व्यक्त किया. भविष्य की संभावनाओं पर भी पूर्व छात्रों ने अपना सहयोग देने की बात कही. कार्यक्रम की समापन टिप्पणी समाज कार्य विभाग के हेड डॉ. ओम्बीर सिंह द्वारा दिया गया और धन्यवाद ज्ञापन विश्वविद्यालय के कॉर्पोरेट रिलेशन सेल के डायरेक्टर डॉ. विनय लिटोरिआ ने दिया. इस कार्यक्रम का संचालन विभाग के कोर्स कोऑर्डिनेटर डॉ. राहुल कपूर ने किया. इस मौके पर समाज कार्य विभाग के फैकेल्टी मेंबर डॉ. सिद्धारामु, डॉ. रौनक अहमद, श्री रवि प्रताप भारती और श्री अमन साहू जुड़े रहे.

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ने साइबर फोरेंसिक लैब स्थापित करने के लिए साइबरटिक इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ समझौता किया

SSR

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय (जीबीयू), ग्रेटर नोएडा ने 10 मई, 2024 को साइबर सुरक्षा और डिजिटल फोरेंसिक के क्षेत्र में अकादमिक ज्ञान और जागरूकता बढ़ाने के लिए एक डिजिटल फोरेंसिक प्रयोगशाला और क्षमता निर्माण सुविधा स्थापित करने के लिए साइबरटिक इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (सीआईपीएल) के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए। साइबरटिक इंडिया प्राइवेट लिमिटेड एक मुंबई स्थित कंपनी है जो साइबर फोरेंसिक, साइबर सुरक्षा, सॉफ्टवेयर विकास, अनुसंधान के क्षेत्र में काम करती है और राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय साइबर फोरेंसिक मुद्दों को भी संभालती है। कुलपति प्रो. रविंदर कुमार सिन्हा ने कहा कि प्रयोगशाला की स्थापना से न केवल विश्वविद्यालय के छात्रों को बल्कि कानून प्रवर्तन एजेंसियों, निजी कॉर्पोरेट्स और निजी संस्थानों को भी ज्ञान मिलेगा। एमओयू साइबर सुरक्षा और साइबर फोरेंसिक प्रौद्योगिकी और शिक्षा के क्षेत्र को मजबूत करने के लक्ष्य के साथ सहयोग के कई संभावित क्षेत्रों की रूपरेखा तैयार करेगा। विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉ. विश्वास त्रिपाठी ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग के युग में साइबर सुरक्षा समय की मांग है। बैठक में सभी स्कूल के डीन, संकाय सदस्य और सीआईपीएल के अधिकारियों ने भाग लिया। यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ इंफॉर्मेशन एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी में प्रयोगशाला स्थापित करने की योजना बनाई जा रही है। समझौते में साइबर फोरेंसिक, साइबर सुरक्षा, सॉफ्टवेयर विकास, अनुसंधान और जीबीयू के छात्रों की क्षमता निर्माण के क्षेत्र में संयुक्त गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला में दोनों पक्षों के सहयोग की परिकल्पना की गई है। एमओयू का उद्देश्य साइबर सुरक्षा प्रौद्योगिकी और योजना के क्षेत्र में इच्छुक छात्रों और शोधकर्ताओं को व्यापक प्रशिक्षण प्रदान करना है। समय के साथ यह प्रयोगशाला स्नातक, स्नातकोत्तर और अनुसंधान कार्यक्रमों के छात्रों के लिए संशोधित प्रमाणन और डिप्लोमा पाठ्यक्रम प्रदान करेगी। इसके अलावा, इस साझेदारी का उद्देश्य साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास गतिविधियों को बढ़ावा देना है। सहयोगात्मक प्रयासों के माध्यम से, जीबीयू और सीआईपीएल, साइबर सुरक्षा उद्योग में नवीन प्रगति के बारे में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर प्रशिक्षण, कार्यशालाएँ, सेमिनार, सम्मेलन, संगोष्ठियाँ और व्याख्यान सहित शैक्षिक कार्यक्रम आयोजित करवाएंगे। इसके साथ ही सक्रिय रूप से अनुसंधान, ज्ञान के सृजन और प्रसार एवम प्रकाशन गतिविधियों में भी योगदान करेंगे।

जीबीयू में छात्रों को एआई का ज्ञान देंगे कंपनी के विशेषज्ञ

SSR

ग्रेटर नोएडा, कार्यालय संवाददाता। गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय (जीबीयू) में विद्यार्थियों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का ज्ञान मिलेगा। इसके लिए विश्वविद्यालय परिसर में एआई सेंटर स्थापित होने की कवायद तेज हो गई है। सेंटर की स्थापना के लिए शासन से 50 करोड़ रुपये का बजट भी प्रस्तावित हो चुका है। एआई सेंटर में देशभर की बड़ी कंपनियां भी आएंगी। कंपनी के वैज्ञानिक और इंजीनियर प्रत्येक सेमेस्टर में कक्षाएं भी लेंगे। विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि एआई का उपयोग पैटर्न खोजने, नई तकनीकी खोजने, भविष्यवाणियां करने, मशीनों और भौतिक वातावरण के साथ बातचीत करने सहित अन्य कार्य में किया जा सकता है। एआई में नॉलेज, रीजनिंग, प्राब्लम साल्विंग, परसेप्शन, लर्निंग, प्लानिंग और ऑटोमेशन प्रोसेस के लिए प्रोग्रामिंग शामिल है। एआई शिक्षा से छात्रों को कई फायदे होंगे। वह कॉलेज के माध्यम से आगे बढ़ते हैं और अपने करियर की राह चुनते हैं। ऐसे में विभिन्न उद्योगों में एआई के बढ़ते एकीकरण के साथ, एआई ज्ञान रखने से छात्रों को नौकरी में प्रतिस्पर्धात्मक बढ़त मिलेगी। एआई शिक्षा का एकीकरण छात्रों को आलोचनात्मक सोच, समस्या- समाधान और रचनात्मकता विकसित करके सशक्त बनाएगा। चूंकि भविष्य की नौकरियों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा एआई प्रौद्योगिकियों पर निर्भर सेंटर स्थापित करने की विदेशी छात्रों के दाखिले बढ़ाने पर जोर | एआई से तेज हो गई है। विश्वविद्यालय में विदेशी छात्रों के दाखिले बढ़ाने पर भी जोर दिया जा रहा है। विश्वविद्यालय स्टडी इन इंडिया प्रोग्राम के तहत विदेशी छात्रों को दाखिला दे रहा है। इंजीनियरिंग में दाखिले के लिए डासा प्रोग्राम भी शुरू किया गया है। इसके तहत जो लोग मूलतः भारतीय हैं, जबकि विदेशों में रह रहे हैं, उन्हें भी जीबीयू में पढ़ने का मौका दिया जा रहा है। ऐसे में एआई कौशल से लैस छात्र-छात्राओं को रोजगार और करियर की सफलता के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। विश्वविद्यालय विज्ञान में रुचि रखने वाले विद्यार्थियों के लिए एआई सेंटर स्थापित करने जा रहा है, यह प्रदेश का पहला हाईटेक एआई सेंटर होगा, जिसमें छात्रों को नए कोर्स और तकनीकों के बारे में जानकारी मिलेगी। छात्रों को एआई में पारंगत करने के लिए देशभर की कंपनियों के साथ एकेडमिक समझौता कर रहा है, ताकि छात्रों को उच्च गुणवत्ता शिक्षा प्रदान की जा सके । - प्रोसेफर आरके सिन्हा, कुलपति जीबीयू आईबीएम के विशेषज्ञ छात्रों को पढ़ाएंगे: बिजनेस एनालिटिक्स और कंप्यूटर सांइस के विद्यार्थियों को पढ़ाने के लिए विश्वविद्यालय आईबीएम कंपनी का सहयोग लेगा। यह कंप्यूटर की सबसे बड़ी कंपनी है। इस कंपनी के वैज्ञानिक और इंजीनियर प्रत्येक सेमेस्टर में जीबीयू में पढ़ाएंगे। इन विषय की थ्योरी और उसका प्रेक्टिकल कराने के लिए कंपनी के साथ एकेडमिक समझौता किया गया है। छात्रों को एआई में पारंगत करने के लिए विश्वविद्यालय ने माइक्रोसाफ्ट, एचसीएल, सेमसंग आदि बड़ी कंपनियों के साथ भी एमओयू किया है। हाल में ही उत्तरप्रदेश के सचिव स्तरीय अधिकारियों के साथ माइक्रोसॉफ्ट के अधिकारियों के साथ इस संबंध में बैठक भी हुई थी।

विदेशी छात्रों ने गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में बुद्ध पूर्णिमा धूम धाम से मनाया

SSR

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के बौद्ध अध्ययन के अंतरराष्ट्रीय छात्रों ने वैशाख पूर्णिमा (बुद्ध पूर्णिमा) का आयोजन उत्साह और आदर के साथ मानाया। कार्यक्रम, 8 मई 2024 को आयोजित किया गया, जिसमें विश्वविद्यालय के कुलपति।, रजिस्ट्रार, डीन एकेडमिक्स, बौद्ध अध्ययन विभाग की डीन और विभाग के सभी संकाय के सम्मानीय शिक्षकों, एवं अन्य विभागों के शिक्षकों की उपस्थिति में कार्यक्रम का आयोजन हुआ। कार्यक्रम का संचालन भिक्षु न्गुयेन वान क्वॉक और भिक्षुनी माई ची द्वारा वैशाख दिवस के महत्व को बौद्ध परंपरा में स्पष्ट किया जाने से शुरू हुआ। उनके तत्वाधान ने एक आध्यात्मिक चिंतन और उत्सव से भरे दिन के लिए मंच तैयार किया। कुलपति प्रो. रविन्द्र कुमार सिन्हा ने आयोजकों की सराहना की और इसे तत्कालीन रूप से संगठित करने और सम्पूर्ण कार्यक्रम को संचालित करने का तरीका बहुत धाराप्रवाही रहा की ओर इशारा करते हुए इस दिन की महत्ता पर प्रकाश डाला और साथ ही आयोजन करने वाले छात्रों को प्रोफेशनल तरीक़े से कार्यक्रम का आयोजन के लिए बधाई दी। जबकि विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ विश्वास त्रिपाठी ने कार्यक्रम के आयोजन में लगे छात्रों की प्रेरणा और समर्पण की सराहना की और्वसाथ ही कहा कि यह कार्यक्रम हर वर्ष विश्वविद्यालय में आयोजित हितिन्रही है और हर बार कुछ नया देखने को मिलता है जो हम सभी के लिए अनुकरणीय है। बौद्ध अध्ययन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ चंद्रशेखर पासवान ने छात्रों को इस आयोजन के लिए बधाई दी और आगे कहा कि किस तरह से कार्यक्रम का आयोजन छात्रों ने किया ये हम सब के लिये प्रेरणा का स्रोत है। प्रो. एन. पी. मालकानिया, डीन एकेडमिक्स और प्रो. श्वेता आनंद, बौद्ध अध्ययन विभाग की डीन, ने विश्वविद्यालय में इस विशेष दिन की विश्वव्यापी अवलोकन की प्रशंसा की और छात्रों को इस अवसर पर इस कार्यक्रम को विश्वविद्यालय में आयोजित करने के लिए धन्यवाद दिया।

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय मे इन्फोसिस स्प्रिंगबोर्ड के द्वारा “लैब ऑन व्हील्स” पहल के अंतर्गत 5 दिवसीय कार्यशाला का किया आयोजन

SSR

ग्रेटर नोएडा: गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय मे इन्फोसिस स्प्रिंगबोर्ड के द्वारा *लैब ऑन व्हील्स* पहल के अंतर्गत 5 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमे स्कूल ऑफ आई.सी.टी. के छात्रो ने भाग लिया। इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य विश्वविद्यालय के छात्रो को 21वीं सदी के कौशल विकसित करने के लिए अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी उपकरणों के बारे मे अवगत करना है।इन्फोसिस स्प्रिंगबोर्ड मेकर लैब ऑन व्हील्स इस पहल के अंतर्गत उद्योग 4.0 एसटीईएम प्रयोगशालाओं को छात्रों तक पहुंचाना है । योग्य प्रशिक्षक इंफोसिस स्प्रिंगबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से संचालित प्रासंगिक सामग्री के माध्यम से सभी शिक्षार्थियों के लिए किट और परियोजनाओं पर आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान करेंगे।छात्रों को किट पर प्रयोग करने, 21वीं सदी के कौशल विकसित करने के लिए अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी उपकरणों के अनुप्रयोगों को समझने और डिजिटल क्रांति को चलाने वाली मूलभूत प्रौद्योगिकियों के बारे में सीखने का मौका मिलेगा। आई ओ टी प्रयोगों से सीखने के परिणामों में सुधार होगा और भौतिक शिक्षण वातावरण में बहुत अधिक मूल्य जुड़ेगा। इस कार्यक्रम में प्रतिभा की पहचान करने, जिज्ञासा जगाने और रचनात्मक विचारकों को तैयार करने की अपार क्षमता है जो वास्तविक दुनिया की चुनौतियों का समाधान प्रदान करेंगे।छात्रों को वास्तविक दुनिया में अवधारणा और उनके अनुप्रयोग सिमुलेशन को कवर करने वाले प्रयोगों पर काम करने का मौका मिलेगा ।इस कार्यशाला में छात्रों ने प्रोजेक्ट बनाने की बुनियादी अवधारणाओं जैसे माइक्रोकंट्रोलर आधारित प्रोजेक्ट, अरुडिनो आधारित प्रोजेक्ट जैसे एलईडी ब्लिंकिंग, ट्रैफिक लाइट सिस्टम, स्मार्ट डोर बेल सिस्टम आदि को सीखा। छात्रों की भागीदारी सराहनीय थी। माननीय कुलपति प्रोफेसर आर के सिन्हा जी ने कहा की इस कार्यशाला से छात्रो को उद्योग 4.0 के अनुरूप कौशल विकसित करने मे मदद करेगा। इस गतिविधि को सफल बनाने में डीन प्रोफेसर संजय शर्मा ,विभागाध्यक्ष डॉ. अनुराग सिंह बघेल, डॉ. विनय लिटोरिया, आईसीटी के प्लेसमेंट समन्वयक डॉ. राजू पाल, श्रीमती भावना यादव और श्री सुमित कटियार ने अपना योगदान दिया,

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ने मनाया पृथ्वी दिवस 2024

SSR

ग्रेटर नोएडा:प्रदेश के राज्यविश्वविद्यालय गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय (जीबीयू) – उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आज दिनांक २२ अप्रैल २०२४ को पृथ्वी दिवस का सफल आयोजन किया गया। विश्वविद्यालय के व्यवसायिक एवं अनुप्रयुक्त विज्ञान संकाय के अंतर्गत पर्यावरण विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में विविध गतिविधियों और विचार-मंथन सत्र का प्रस्तुतीकरण किया गया तथा अधिक टिकाऊ भविष्य के लिए एक आंदोलन का भी प्रारम्भ शुरुवात हुई तथा ऊर्जा और पर्यावरण संरक्षण के प्रति साझी प्रतिबद्धता भी दुहराई गयी । इस वर्ष पृथ्वी दिवस की वैश्विक विषयवस्तु “प्लैनेट बनाम प्लास्टिक” पर केंद्रित थी । वर्ष 1970 से यह दिवस आधुनिक पर्यावरण आंदोलन के जन्म की सालगिरह का जश्न मनाने के लिए आयोजित किया जाता है। इस कार्यक्रम, में आईसीएआर-केंद्रीय कृषिवानिकी अनुसंधान संस्थान, झाँसी के निदेशक, प्रोफेसर ए. अरुणाचलम मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे।कार्यक्रम में डॉ. सोनिका शर्मा, वैज्ञानिक डी,, आईएनएमएएस, डीआरडीओ, नई दिल्ली, (शिक्षा जगत), LASA इंडिया की उप महाप्रबंधक डॉ. ऋचा सिंह (अनुसन्धान जगत ) तथा एक्स्प्लोरनोवेट प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ और एमडी श्री राहुल गुप्ता (उद्योग जगत ) इत्यादि, एक प्रतिष्ठित पैनल के रूप में उपस्थित थे जिनकी विषय विशेषज्ञता ने सभी का ज्ञानवर्धन किया तथा मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान की। कार्यक्रम में गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रवींद्र कुमार सिन्हा जी, डॉ. विश्वास त्रिपाठी, विश्वविद्यालय के कुलसचिव; प्रो. निरंजन प्रकाश मेलकानिया, डीन-अकादमिक, डीन स्कूल ऑफ वोकेशनल स्टडीज एंड एप्लाइड साइंसेज, और डीन, स्कूल ऑफ बायोटेक्नोलॉजी; डॉ. मनमोहन सिंह, प्रभारी डीन, छात्र मामले; विश्वविद्यालय के विभिन्न स्कूलों के डीन और डीन (प्रभारी), निदेशक (कार्य), वित्त अधिकारी, डॉ. भास्वती बनर्जी, प्रमुख, पर्यावरण विज्ञान विभाग; विभिन्न विभागों के प्रमुख, संकाय सदस्य, अनुसंधान विद्वान, छात्र और गैर-शिक्षण कर्मचारियों की भी सहभागिता रही। कार्यक्रम की पहुंच विश्वविद्यालय की सीमा से परे ग्रेटर नोएडा के विभिन्न स्कूलों तक थी जिनके प्रधानाचार्यों, शिक्षकों और छात्रों ने कार्यक्रम में हिस्सा लेकर एक समुदाय-व्यापी पर्यावरणीय जिम्मेदारी की भावना को मजबूत किया ।

Headlines

सीएसजेएम गर्ल्स हॉस्टल, जीबीयू ने समाज सुधारक छत्रपति शाहू जी महाराज की जयंती मनाई
दुश्‍मनों के मंसूबों को जड़ से नष्‍ट करेगी डिजिटल फोरेंसिक लैब, सीमा पार से आनेवाले ड्रोन का हो सकेगा खात्मा
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग द्वारा ऑनलाइन ‘अलुमनाई मीट’ का हुआ सफल आयोजन 
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ने साइबर फोरेंसिक लैब स्थापित करने के लिए साइबरटिक इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ समझौता किया
जीबीयू में छात्रों को एआई का ज्ञान देंगे कंपनी के विशेषज्ञ